swami vivekananda Quotes in Hindi

0
50

swami vivekananda Quotes in Hindi

नाम-स्वामी विवेकानंद (जन्म नाम- नरेन्द्रनाथ दत्ता) Swami Vivekananda(Born- Narendranath Dutta)

जन्म- 12 जनवरी 1863 कलकत्ता(कोल्कता)Calcutta (Now-Kolkata)

मृत्यु- 4 जुलाई 1902

राष्ट्रीयता- भारतीय(Indian)

संस्थापक-रामकृष्ण मिशन(founder of Ramakrishna Math and Ramakrishna Mission)

साहित्यिक कार्य – राज योग, कर्म योग, भक्ति योग, ज्ञान योग, (मई मास्टर-किताब), लेकचर्स फ्रॉम कोलोंबो टू अल्मोरा

उपलब्धि-स्वामी विवेकानंद नें संयुक्त राज्य अमेरिका, इंग्लैंड और यूरोप में हिंदू दर्शन के सिद्धांतों का प्रसार किया था।

सबसे पहले एक विचार को लें, उस विचार को अपना जीवन बनायें – उसके विषय में सोचें, सपने देखें, और उस विचार के साथ जियें। अपने मस्तिस्क, मांसपेशियों, नसों, अपने शरीर के सभी भागों को उन विचों से भर दें और दुसरे विचारों को भूल जाएँ। यही सफलता का रास्ता है।

हम जो भी हैं हमारे विचारों नें हमें बनाया है; इसलिए अपने विचारों पर ध्यान दें। शब्द तो दुसरे स्तर की बात है। विचार हमेशा जिंदा रहते हैं, और ज्यादा दूर तक साथ निभाते हैं।

आपको अपने अंदर से विकास लाना होगा। कोई आपको नहीं सिखा सकता, कोई आपको अध्यात्मिक नहीं बना सकता। आत्मा के बिना और कोई शिक्षक/गुरु नहीं जो इसका ज्ञान पढ़ा सके।

जीवन में अस्तित्व होने के मुख्य रहस्य है जीवन में डर ना होना। कभी मत डरो, आपके साथ क्या होगा, यह किसी पर भी निर्भर नहीं हैं।

swami vivekananda  in Hindi

किसी भी चीज/वस्तु से ना डरें। आप बहुत अच्छे से अपना कार्य पूर्ण करोगे। यह निडरता ही है जो स्वर्ग प्रदान करती है , किसी एक पल में।

जो भी आपको मिले, ना तो उसको ढूँढें/तलाश करें ना ही उसे भूलें।

जो आग/अग्नि हमें गर्मी देती है, वाही हमें राख भी कर सकती है, इसमें आग की कोई गलती नहीं है।

शक्ति जीवन है, कमजोरी मृत्यु है ! विस्तार जीवन है, संकुचन मृतु है ! प्यार जीवन है, नफरत/घृणा मृतु है।

आराम सचाई का कोई परीक्षा नहीं। सच तो अक्सर आराम से कोसों दूर है।

कुछ भी ना पूछो; फल पाने की आशा ना करें। दीजिये जो आपके पास है देने के लिए, बह वापस नहीं मिलेगा, परन्तु फल के विषय में समय हैं।

सभी कार्य 3 रस्तों से होकर गुजरता है – विरोध, स्वीकृति, उपहास।

यह हमारा कर्त्तव्य है कि हम सभी को उनके मुश्किल समय में प्रोत्साहित करें ताकि वह अपने सबसे बड़े या उच्च विचारों के बल पर जियें, और एक ही प्रयास में उसी समय जितना हो सके सच करने के लिए।

swami vivekananda Quotes

अगर पैसे से किसी मनुष्य का अच्छा हो सकता हैं तो पैसे का कोई मूल्य है, पर अगर नहीं, तो यह साधारण रूप से बुराई का एक टुकड़ा है, और जितना जल्दी यह हाँथ से चले जाये, उतना अच्छा है।

कभी भी मत सोचिये की आत्मा के लिए कुछ भी असंभव है। यह सबसे बड़ा गलत सोच है। अगर कोई पाप है, तो यह सिर्फ पाप है की; अपने आपको कमजोर सोचना और दूसरों को भी।

अगर हम भगवान को स्वयं के ह्रदय में नहीं देख सकते, या किसी दुसरे जीवित प्राणी के तो हम कहाँ जा सकते हैं इश्वर को ढूँढने के लिए।

जब एक विचार विशेष रूप से मन में जगह बना लेता है, तो यह वास्तविक शारीरिक या मानसिक रूप में तब्दील हो जाता है।

वेदांत किसी भी पाप को नहीं पहचानता है, यह मात्र गलतियों को पहचानता है। और सबसे बड़ी गलती यह है कि वेदांत कहता है की आप कमजोर हैं, आप एक पापी हैं, एक दुखी प्राणी हैं, और आपके के पास कोई ताकत नहीं हैं और आप ये नहीं कर सकते वो नहीं कर सकते।

एक ही शब्द में, आदर्श यह है कि तुम पवित्र हो।

भगवान उन्हीं की मदद करते हैं जो स्वयं की मदद करते हैं।

swami vivekananda

अगर आपको कभी दिल और दिमाग में कभी किसी एक को चुनना पड़े तो, दिल को चुनें या उसका पालन करें।

एक दिन, जब आपके जीवन में कोई भी मुश्किलें ना हों तो आप पक्का कर लें की आप गलत रास्ते में हो।

.

सबसे बड़ा रहस्य असली सफलता के लिए, असली खुशियों के लिए, यह है कि आदमी और औरत या मनुष्य जो बिना किसी फल की मांग करते हैं, बिना किसी मतलब के, वही सफल व्यक्ति कहलाता है।

best swami vivekananda Quotes in Hindi

यह पूरा जीवन सपनों का उत्तराधिकार है तथा घिरा हुआ। मेरी महत्वाकांक्षा तो जीवन में सचेत सपन देखना हैं, बस इतना ही।

पुस्तकें अंकों में अनंत हैं परन्तु समय बहुत ही कम है। ज्ञान का असली रहस्य तो यह है कि किसको सही समझें और किसको चुनें।

यह दुनिया एक बहुत ही बड़ा/महँ व्यायामशाला है, जहाँ हम अपने आपको मजबूत बनाने के लिए आये हैं।

स्वयं पर विश्वास रखिये और पूरी दुनिया आपके कदम पर होगी।

श्री रामकृष्ण परमहंस जी का कहना था, “जितना दिन भी में जीवित रहूँगा, में कुछ ना कुछ सीखता रहूँगा या सिखने की कोशिश करता रहूँगा”। जिस किसी भी मनुष्य या समाज के पास सिखने को कुछ नहीं या सिखने की इच्छा नहीं वह पहले से ही मौत के मुहं मैं हैं।

अपने जीवन में जोखिम लीजिये, अगर आप जित जाते हो, तो आप नेतृत्व करोगे! अगर आप हार जाओगे, तो आपको सिख मिलेगी जिससे की दोबारा आपको असफलता ना मिले।

top swami vivekananda Quotes in Hindi

मनुष्य के मन में शक्ति की कोई सीमा नहीं होती। यह जितना ज्यादा ध्यान केन्द्रित करता हा उतना ही दिमाग एक बिंदु पर शक्ति लगता है। इसकारण जितना होसके हमें अपने सपने और लक्ष्य के बारे मं हमेशा सोचना चाहिए।

एक मुर्क भले ही दुनिया के सभी किताबों को खरीद ले, और हो सकता है उन किताबों को अपने लाइब्रेरी में रख ले; परन्तु वह उन्हें तभी पढ़ सकता है अगर वह उसके काबिल है तो।

जितना भी ज्ञान इस दुनिया में प्राप्त हुआ है या पहुंचा है, मन से विकसित/उत्पन्न हुआ है; ब्रह्माण्ड का सबसे बड़ा और अनंत पुस्तकालय हमारा खुद का मन है।

आपको स्वयं को कृष्ण में पूजना चाहिए ना की कृष्णा को कृष्णा में।

क्या आप निस्वार्थ है? यही प्रश्न है? अगर आप निस्वार्थ हैं, आप बिलकुल सही हैं और आपको किसी भी धार्मिक किताब को पढने की जरूरत नहीं है और ना किसी चर्च या मंदिर में जाने की जरूरत है।

वे धन्य हैं जिनका शरीर दूसरों की सेवा में नस्ट हो जाता है।

प्रकृति के अस्तित्व रहने के लिए सबसे बड़ा कारण है आत्मा की शिक्षा।

यह पृथ्वी में हीरो ही सभी चीजों का आनंद उठाते हैं- यह एक ना बदल सकने वाला सच है। हीरो बनें। हमेशा स्वयं से कहें, ” मुझमे कोई डर नहीं है।

एक बहुत ही मुर्ख व्यक्ति भी किसी कार्य को पूरा कर सकता है अगर वह उसके दिल को पसंद आये या वह उस कार्य की चाह रखता हो। परन्तु एक बुद्धिमान व्यक्ति के लिए कोईभी कार्य हो चाहे उसे पसंद आता हो या नहीं वह उसको अपनी पसंद/स्वाद के अनुसार पूरा कर ही लेता है।

 Quotes in Hindi

कर्तव्य के प्रति समर्पण भगवान की पूजा का उच्चतम रूप है।

यह एक महँ तथ्य है; शक्ति जीवन है, कमजोरी मृत्यु है। शक्ति परम सुख है, जीवन अनंत है, अमर है; कमजोरी हमेशा तनाव और दुख है, कमजोरी मृत्यु है।

हालत बेहतर होते नहीं हैं; वे वैसे के वैसे ही रहते हैं। वो हम हैं जो अपने आपको बेहतर बनाते हैं, अपने स्वयं के अन्दर बदलाव ला कर।

स्वतंत्रा अपने आपको बेहतर बानाने का पहला शर्त है। यह गलत है, एक हज़ार बार गलत हैं, अगर आप हिम्मत से कहते हैं कि, ‘ मैं इस महिला या बच्चे के उद्धार के लिए।

मनुष्य परमात्मा को साकार करने से परमात्मा बन गया है। मूर्तियों और मंदिरों, या चर्च या किताबें, केवल समर्थनके लिए है, अपने आध्यात्मिक बचपन की मदद कर रहे हैं।

इस दुनिया में अच्छाई और बुराई का मिश्रण होना जारी रहेगा। हमारा कर्त्तव्य यह है कि कमजोर व्यक्ति से सहानुभूति रखें और गलती करने वालों से प्यार भाव।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here